KADLI KE PAAT कदली के पात

चतुर नरन की बात में, बात बात में बात ! जिमी कदली के पात में पात पात में पात !!

81 Posts

3600 comments

R K KHURANA


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

हजारों ने लूटा

Posted On: 25 Mar, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (15 votes, average: 3.80 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

6 Comments

तीन इच्छाएं

Posted On: 25 Mar, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (33 votes, average: 4.61 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

8 Comments

माँ की मर्जी

Posted On: 23 Mar, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (36 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

2 Comments

प्रणाम

Posted On: 23 Mar, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (37 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

2 Comments

लाल किताब

Posted On: 20 Mar, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (12 votes, average: 3.25 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

5 Comments

कदली के पात

Posted On: 20 Mar, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (12 votes, average: 2.92 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

2 Comments

आहार

Posted On: 19 Mar, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (36 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

2 Comments

कारण

Posted On: 19 Mar, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (33 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

4 Comments

Online Shopping-Safe tips

Posted On: 18 Mar, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (16 votes, average: 3.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

11 Comments

Page 5 of 5«12345

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा:

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

आदरणीय गुप्त जी, आपने मेरी कमियों को बताया ! और मेरा मार्गदर्शन किया इसके लिए मैं हृदय से आपका आभारी हूँ ! असल मैं हमें सही मार्गदर्शन ही नहीं मिला इसीलिए थोड़ी बहुत जितनी समझ है लिख लेते हैं ! आपने कहा है कि हमें अच्छे साहित्य को पढ़ना चाहिए ! बिलकुल सही कहा आपने ! मेरा भी यही मानना है कि यदि हम अच्छा साहित्य पढ़ेंगे तो अच्छा लिखने की प्रेरणा मिलेगी ! मैं आपकी सलाह का आदर करता हूँ और वादा करता हूँ की आगे से और अच्छा लिखने व पढ़ने का प्रयास करूंगा ! मैंने इस मंच से बहुत कुछ सीखा है लेकिन अभी भी बहुत कुछ सीखने को बाकी हैं ! आप जैसे सज्जनो के संग रह कर वो कमी भी पूरी हो जायगी ऐसा मेरा विश्वास है ! आपके मार्गदर्शन के लिए पुनः आभार ! राम कृष्ण खुराना

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा:

कोई कहता है प्यार नशा बन जाता है ! कोई कहता है प्यार सज़ा बन जाता है ! पर प्यार करो अगर सच्चे दिल से, तो वो प्यार ही जीने की वजह बन जाता है !! आदरणीय राम कृष्ण खुरानाजी,बहुत भावपूर्ण रचना.आपकी रचना से प्रेम छलकता है.यदि संसार में और किसी रचना में प्रेम न हो तो वो नीरस हो जाती है.बहुत से विद्वान जो बहुत नीरस लिखते हैं,वे अपनी ही रचना दुबारा पढ़ने की हिम्मत नहीं जुटा पाते हैं.ये आपका मंच के नाम प्रेमपत्र बार बार पढ़ने योग्य है.आप सब साहित्यकारों के अथक प्रेम और अथक प्रयास ने इस मंच को बच्चन जी की मधुशाला के जैसा रसपूर्ण,सार्थक,उपयोगी और शिक्षाप्रद बना दिया है.इस बेहतरीन रचना के लिए मेरी हार्दिक बधाई स्वीकार कीजिये.

के द्वारा: sadguruji sadguruji

आदरणीय डाक्टर साहिब, मैंने तो एक फ़िल्मी गाने के सन्दर्भ में कहा था - कस्मे वादे प्यार वफ़ा सब बातें है बातों का क्या ? कोइ किसी का नहीं है झूठे नाते है नातों का क्या .. हाँ ! मैं जानना चाहता हूँ कि आप को क्या कमी लगी ! कौन सी चीज़ अच्छी नहीं लगी ! आप कृपया मुझे बताये जिससे में आगे से वही गलती न करू ! कृपया आप मेरी कमियों को बताएं ! मैं आभारी हूँगा ! मैंने तो अभी बहुत कुछ सीखना है ! मैं आपसे सीखना चाहता हूँ ! आप ने तो (शायद साहित्य में) डॉक्टर की उपाधि ली है लेकिन मैं तो एक अदना सा कलम घसीटू हूँ ! आपकी प्रतिक्रिया के लिए मैं आभारी हूँ और आशा करता हूँ कि आप मेरा मार्गदर्शन करेंगे ! धन्यवाद सहित ! राम कृष्ण खुराना

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: jlsingh jlsingh

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: शालिनी कौशिक एडवोकेट शालिनी कौशिक एडवोकेट

आपकॊ मित्र धोखा देते हैं, सबसे पहले तो आपका नाम गलत है ये नाम सूचित करता है कि आप संघर्ष करते रहेंगे, अगर परेशान ज्यादा है तो अजीब सा एक नाम है उसे कुछ दिन कागज पर लिख कर प्रेकटिस करते रहें लाभ हो तो कानूनी रूप से अपना लें। आपकी पत्नि सोना थोडा कम पहने, हालांकि वो परिवार का पूरा ध्यान रखती हैं, अगर आप शराब या मांस का सेवन कभी भी कर चुके हैं तो ही ऎसी हालात उत्पन्न होते हैं अचानक बुरा दौर तभी शुरु होता है जब ऎसा कुछ कार्य कर दिया हो। नाम धूप गुप्ता dhoop gupta ये अजीब नाम है पर ट्राय करके देखें ३मास प्रेकटिस करें। हरि ॐ राष्ट्रवादी पार्टीयो का समर्थन करें जैसे बीजेपी विहिप आदि। क्योंकि आप राष्ट्रप्रेमी नही है इसलिये कहा है।

के द्वारा:

पंडितजी को मेरा प्रणाम और जय साई राम.....पंडितजी हमारे घर पे किसी नजर है ये बात हमे किसी के द्वारा पता चली.मेरी मम्मी कि तबियत अचानक से ही बिगड़ जाती है.पापा का बिज़नस है ..दो तीन साल से वो बी बहुत बुरी तरीके से घाटे में आ गया है.एक साल पहले हम लोग किसी के जरिये साई नाथ से जुड़े उसके baad हमारे घर में कुछ स्थिति सही हुई.लेकिन आज भी पंडितजी अगर हमारे घर में कुछ ख़ुशी आती है.तो तुरंत उसी दिन से मम्मी कि तबियत bigad जाती है या तो उस दिन हमारे घर me कलेश होता hai.पंडितजी हम लोग बहुत परेशान है कृपया करके कुछ ऐसा उपाय बताएं कि हमारे घर में सुख शांति वापस आ जाये और पापा के बिज़नस में तरक्की हो.कृपया कर मुझे उपाय मेल करके भेजें में आपका आजीवन भर आभारी रहूँगा.पंडितजी को मेरा जय साई राम.

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा:

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: jai jai

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

आदरणीय खुराना जी प्रणाम छोटे से सफ़र में लम्बी (बड़ी) उपलब्धि के लिए बधाई स्वीकार करें ! आपने सही कहा --लोगों के दिल की बात सुनी, अपने दिल की बात कही ! क्योंकि हमने कहीं पढा था कि यारों के साथ दिल खोल कर बात करनी चाहिए दिल में बात रखने से दिल के जाम हो जाने का खतरा पैदा हो जाता है ! फिर उसे खोलने के लिए डाक्टर औजार चलाते हैं ! किसी ने ठीक ही कहा है अगर दिल खोला होता अपने यारों के साथ तो अब खोलना न पडता औज़ारों के साथ !! आपने बिलकुल सही कहा की अपने मन की बात कहो (लिखो) और एक क्लीक में ही सब कुछ सामने छप जाता है ! चिट्टी पत्री के झंझट से छुटकार स्वीकृति अस्वीकृति का भय समाप्त इस लिए जागरण मंच अपने आपमें अनमोल तो है ही ?

के द्वारा: s.p. singh s.p. singh

प्रिय राज कमल जी, मेरी रचना “अनमोल बनाया जागरण जंक्सन ने" पर आपकी प्रतिक्रिया मिली ! आपके लिए धन्यवाद शब्द तो बहुत छोटा हो जायगा ! क्योंकि आप मेरे इतने अपने हो के धन्यवाद देना उचित नहीं लगता ! जहाँ तक डर की बात है तो मुझे डर नहीं लगता ! क्योंकि कहावत है ना की "भतीजा (सैंयां) भयो कोतवाल तो डर काहे का" ! आप जैसे मेरे भतीजे कोतवाल (दबंग दरोगा) हैं तो मुझे कैसा डर ? रही बात आज के ब्लागेर्स के जिक्र की तो यहाँ पर जागरण वालो ने अपने सफ़र के खट्टे - मीठे पलों के अनुभव के बारे में कहा था ! इसीलिए मैंने पुराने साथियों का ही जिक्र किया है ! बाकि अभी तो पिक्चर बाकि है मेरे दोस्त ! आगे बहुत से मौके आएंगे ! राम कृष्ण खुराना

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

आदरणीय खुराना चाचा जी ...... सादर प्रणाम ! आपकी याददाश्त शक्ति की दाद देनी पड़ेगी की कितनी बारीकी से आपने जागरण मंच के इस सफर को हमारे सामने प्रस्तुत किया है ...... उस समय आप इस मंच के एक सतम्भ थे और आपकी रचना पर कमेन्ट देते हुए डर लगा करता था – हा हा हा हा हा हा हा आपकी सारी की सारी पेशकारी उत्तम है बस एक ही बात कुछ अजीब लगती है ..... आपने अपनी रचनाओं पर कमेन्ट देने वाले उस समय के सभी ब्लागर्स का जिक्र तो किया है लेकिन उनमे से ज्यादातर अब सक्रिय नहीं है इसलिए किसी न किसी बहाने से आपको आज के समय के ब्लागर्स का जिक्र भी कर ही देना चाहिए था ..... एक मुद्दत के बाद आपको यहाँ पर इस मंच पर फिर से सक्रिय होते देखना सुखद रहा .... इस बेहतरीन रचना पर मुबारकबाद

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA