KADLI KE PAAT कदली के पात

चतुर नरन की बात में, बात बात में बात ! जिमी कदली के पात में पात पात में पात !!

81 Posts

3605 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 875 postid : 446

जिंदा है ओसामा

  • SocialTwist Tell-a-Friend

जिंदा है ओसामा

Jinda hai Osama

राम कृष्ण खुराना

बडे गर्व से बोला ओबामा कि,

मर गया है ओसामा !

लेकिन जिंदा हैं -

ओसामा को जिंदा रखने वाले !

पाक ने शर्मसार होकर माना कि -

मर गया है ओसामा !

लेकिन जिंदा हैं –

उसको सरंक्षण देने वाले !

गम मे डूबे तालिबान का है कहना कि –

मर गया ओसामा !

लेकिन जिंदा हैं –

ओसमा को पालने वाले !

आंसू बहाते आतंकवादियों ने भी जाना कि-

मर गया ओसामा !

लेकिन जिंदा हैं –

ओसामा को पूजने वाले !

टी, वी, समाचार पत्र सभी चिल्ला रहे है कि-

मर गया ओसामा, मर गया ओसामा !

लेकिन जिंदा हैं कई छोटे-छोटे ओसामा

जो बडे होकर

उससे भी ज्यादा खतरनाक साबित हो सकते है !

इसीलिए मैं कहता हूं कि -

अभी जिंदा है ओसामा !

राम कृष्ण खुराना

426-ए, माडल टाऊन एक्सटेंशन,

नज़दीक कृष्णा मंदिर,लुधियाना (पंजाब)

9988950584

khuranarkk@yahoo.in



Tags:         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (31 votes, average: 4.48 out of 5)
Loading ... Loading ...

50 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Mala Srivastava के द्वारा
June 1, 2011

बिलकुल सही कहा आपने सर एक के मरने से कुछ नही होता … इनका समूल नाश होना ज़रूरी है !

    R K KHURANA के द्वारा
    June 1, 2011

    प्रिय माला जी, यही विचार लेकर मैंने यह रचना लिखी है ! काश ऐसे हो जाय ! आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद राम कृष्ण खुराना

alkargupta1 के द्वारा
May 31, 2011

आदरणीय खुराना जी , सादर अभिवादन बहुत सही बात कही है आपने ओसामा तो अभी मरकर भी मरा ही नहीं है न जाने कितने ओसामा अभी ज़िदा हैं…बस थोड़े ही दिनों की शांति है फिर किसी नए आतंकवादी तूफ़ान का जन्म हो जायेगा | बहुत ही अच्छी कविता है !

    R K KHURANA के द्वारा
    May 31, 2011

    सुश्री अलका जी, हाँ ठीक कहा है आपने ! इन छोटे छूट ओसमयों को भी मरना होगा तभी आतंकवाद ख़त्म होगा ! आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद राम कृष्ण खुराना

Tufail A. Siddequi के द्वारा
May 30, 2011

खुराना साहब अभिवादन, सही कहा आपने. आतंकवाद एक विचारधार है. केवल एक या दो आतंकवादियों के मरने से सम्पूर्ण आतंकवाद का खात्मा नहीं हो सकता है. इसीलिए ये कहा जा सकता है की आतंकवाद अभी जिन्दा है. सुन्दर रचना. बधाई. http://siddequi.jagranjunction.com

    R K KHURANA के द्वारा
    May 30, 2011

    प्रिय तुफैल जी, इस आतंकवाद की विचारधारा को ही समाप्त करना है तभी कुछ सकूं मिल सकेगा ! मेरी रचना “जिन्दा है ओसामा” पर आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद ! राम कृष्ण खुराना

NAVEEN KUMAR SHARMA के द्वारा
May 30, 2011

चाचा जी नमस्ते, आपने सही कहा है कि ओसामा जिन्दा है क्योंकि जब तक ओसामा जैसों को पनाह देने वाले और ओसामा को मानने वालों को खत्म नहीं किया जाता तब तक ओसामा को मार पाना कठिन है क्योंकि जब तक इनके खिलाफ कोई सख्त कार्यवाही नहीं होगी तब तक रोज़ नए ओसामा पैदा होते रहेंगे नवीन कुमार शर्मा बहजोई (MURADABAD) उ . प्र . मोबाइल नंबर .- 09719390576

    R K KHURANA के द्वारा
    May 30, 2011

    प्रिय नवीन जी, ओसामा आतंकवाद का पर्याय बन गया था ! उसको पलने वाले तो अहि जिन्दा ही है ! मेरी रचना जिन्दा है ओसामा पर आपके स्नेह के लिए धन्यवाद् राम कृष्ण खुराना

subhash के द्वारा
May 30, 2011

bahut achhi lagi sir

    R K KHURANA के द्वारा
    May 30, 2011

    प्रिय सुभाष जी, आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद राम कृष्ण खुराना

Rajni Thakur के द्वारा
May 29, 2011

बेहतरीन पोस्ट के लिए बधाई. एक ओसामा को मारकर किला फतह करने जैसी स्थिति बना दी गई है पर आतंकवाद का यथार्थ बहुत डरावना और चौंकानेवाला है.

    R K KHURANA के द्वारा
    May 29, 2011

    प्रिय रजनी जी, “जिन्दा है ओसामा” आपको अच्छी लगी ! जानकर अच्छा लगा ! धन्यवाद् राम कृष्ण खुराना

nikhil के द्वारा
May 29, 2011

सर प्रणाम ये सही ही कहा गया है की हजार पन्नो की किताब जो पूरी तरह नहीं कह पाती उसे कोई रचनाकार बहुत आसानी से कुछ ही शब्दों में व्यक्त कर देता है … सत्य को बहुत ही सटीक तरीके से आपने रखा है ……. जिन्दा ओसामा से ज्यादा खतरनाक मृत ओसामा है … और जो रवैया है चरमपंथियों का वे ओसामा जैसो को रोल माडल बनाने में जरा भी देर नहीं करते …. मै जैन जी की बातो से सहमत हु चरमपंथी हर तरफ है .. अमेरिका चरमपंथ का सबसे कुख्यात उदाहरण है आज जो भी सामने है वह उसके किये का ही परिणाम है जो विश्व भुगत रहा है .. और विश्वा में सबसे ज्यादा हथियार बनाने और बेचने वाला यह देश विश्व को लगातार एक बड़े खतरे की तरफ धकेल रहा है जो कई सारे ओसामाओ से ज्यादा खतरनाक है .. एक बेहतरीन रचना

    R K KHURANA के द्वारा
    May 29, 2011

    प्रिय निखिल जी, अमेरिका की यह चाल अब सब लोग जन गए हैं पर कोइ बोलने वाला नहीं ! अगर कोइ धीमे आवाज में बोलता भी है तो कोइ उसे सुनने या मानने वाला नहीं ! इसी का परिणाम है की अमेरिका की मनमानी दिन पर दिन बढती जा रही है ! पाक ने भी भारत को तो धमकी दे दी पर वो अमेरिका के खिलाफ एक शब्द भी नहीं बोल पाया जबकि अमेरिका ने कहा है की वो दोसरा एबटाबाद भी कर सकता है ! जिसकी लाठी उसकी भैंस वाली बात है ! राम कृष्ण खुराना

    R K KHURANA के द्वारा
    May 29, 2011

    प्रिय जैन साहब, आपका गुस्सा अमेरिका पर है ! जायज भी है ! क्योंकि वो दोगली निति चल रहा है ! यहाँ कहता है की पतिस्तान आतंकवाद का अड्डा है और पाकिस्तान में जाकर उसे कालीन चिट दे देता है ! जब उसे अपना वापर बढ़ाना होता है तो भारत की शरण में आ जाता है और अपनी राजनितिक चालों से करोड़ो को व्यापार पाने में सफल हो जाता है ! जब उसका मतलब हल हो जाता है तो पीठ पर लात मर देता है ! राम कृष्ण खुराना

    R K KHURANA के द्वारा
    June 13, 2011

    प्रिय जैन साहिब, पुलिस बर्बरता का तो क्या कहना ! इन से बचना मुश्किल हो गया है आजकल ! इनको सत्ता का भी भरपूर आश्रय मिलता है और हाथ में पवार आने से यह कोइ भी अनर्थ कर्नसे से नहीं चूकते ! हाँ मैं इस बारे में शीघ्र ही एक लेख लिखने जा रहा हूँ ! हम सब मिल कर इसके लिए आवाज़ उठाएंगे ! धन्यवाद् राम कृष्ण खुराना

Aakash Tiwaari के द्वारा
May 29, 2011

आदरणीय खुराना जी, इंसान मर जाता है मगर उसके विचार नहीं मरते.. ओसामा दुनिया की एक ऐसी ताकत था जो भले ही अपराध से जुड़ा हुआ था मगर उसके विचार बहुत बलवान थे…बलवान है..अमेरिका ने ओसामा को मारकर उसके चाहने वालों के दिल में उसकी और इज्जत बढ़ा दी..देखते जाइएगा अभी कितने ओसामा पैदा होंगे,,,,, बहुत ही अच्छी पोस्ट, **************************** एक अकेला आकाश तिवारी ****************************

    R K KHURANA के द्वारा
    May 29, 2011

    प्रिय आकाश जी, अपराध से जुड़ा हुआ कोइ भी इन्सान अच्छा नहीं हो सकता ! उसके कौन से विचार बलवान थे मुझे नहीं पता ! एक आतंकवादी की इज्ज़त के बढ़ने का सवाल ही पैदा नहीं होता ! आतंकवाद तो समाप्त होना ही चाहिए ! इसको बढ़ावा देने वाले भी आतंकवादी ही है ! राम कृष्ण खुराना

    SK Jain के द्वारा
    May 29, 2011

    मैं आकाश जी से सहमत हु , ओसामा अमेरिका की ही भेदभाव पूर्ण नीति का परिणाम था और अगर अमेरिका इस तरह देश पर देश तबाह करता रहा तो ओसामा के विचारों को बल ही मिलेगा ! ९/११ से पहले जब भी भारत ने अमेरिका के सामने पाकिस्तान के आतंवाद का मुद्दा उठाया अमेरिका ने यह कह कर टाल दिया की वहां एक बड़ा वर्ग उन्हें मुजाहिदीन कहता है जिनको आप आतंकवादी कहते है और इस तरह हमेशा पाकिस्तान को समर्थन देता रहा , अब जब अपने पे आ गयी तो उसको सब आतंवादी नज़र आने लगे !

    R K KHURANA के द्वारा
    May 29, 2011

    प्रिय जैन साहब, जहाँ तक अमेरिका का सवाल है तो हम देख रहे ही की वो अपने मतलब के लिए दोगली निति चल रहा है ! उसमे ओसामा को बनाया या नहीं यह एक अलग मुद्दा है ! बात यहाँ आतंकवादियों की है ! मेरा मत है की आतंकवाद समाप्त होना चाहिए ! ओसामा जो की आतंकवाद का सरगना था मारा गया तो अच्छा हुआ ! किसने मारा और कैसे मारा मैं उस पर बहस नहीं करना चाहता ! यह सब राजनितिक चलें है ! मैं तो यह चाहता हूँ की समस्त संसार में शांति और अमन कायम हो ! कोइ किसी को भी नाजायज़ तंग न करे और आतंकवाद न फैलाये ! इसलिए मैं कहता हूँ की न तो आतंक अच्छा है और न आतंकवादी ! राम कृष्ण खुराना

    Aakash Tiwaari के द्वारा
    May 30, 2011

    आदरणीय श्री खुराना जी, लगता है आपने मेरी बातों का गलत अर्थ निकाल लिया…मेरा तो सिर्फ इतना कहना था की ओसामा जो की आतंकवादी था उसके विचार भी आतंकी थे और जितने बुरे विचार उसके थे शायद ही किसी के रहे हो…लेकिन ये आपभी जानते है और हम भी की ओसामा को मानने वाले और उसकी पूजा करने वाले पाकिस्तान समेत पूरे विश्व में है….अब जब अगर ऐसे व्यक्ति को आप इस तरह चोरी से मार गिराते है तो उसकी पूजा करने वाले तो और भी उसे मानने लगेंगे की नहीं…मेरा मानना है की ओसामा को पकड़कर पूरी दुनिया के समक्ष सजा देना चाहिए था…मै आतंक और आतंक के नाम से भी नफरत करता हूँ…और यदि मुझे ओसामा को सजा देने का मौका मिलता तो पूरी दुनिया में सीधा प्रशारण करवाता और उसको सजा देता…..धिक्कार है ऐसे इंसान पर जिसकी वजह से बेगुनाहों की जान जाती है… **************************** एक अकेला आकाश तिवारी *****************************

    R K KHURANA के द्वारा
    May 30, 2011

    प्रिय आकाश जी, आप इस मंच के पुराने सदस्य है और मेरे बहुत प्रिय है ! मैं आपकी बहुत इज्जत करता हूँ ! आपकी भावना गलत नहीं हो सकती ! परन्तु आपने लिखा था की ओसामा के “विचार बहुत बलवान थे…बलवान है..अमेरिका ने ओसामा को मारकर उसके चाहने वालों के दिल में उसकी और इज्जत बढ़ा दी !” मैंने इस बात का जवाब दिया था ! शहीदों की चिताओं पर मेले लागते है लेकिंग आतंकियों के मरने पर उनसे नज़दीकी मातम ही करते है ! आपने जो सपष्टीकरण अब दिया है वह सराहनीय है ! धन्यवाद राम कृष्ण खुराना

priyasingh के द्वारा
May 29, 2011

बहुत सही लिखा आपने ……..जब तक लोगो के मन से हिंसा की उस भावना का खात्मा नही होगा तब तक किसी एक ओसामा को खतम कर के क्या होगा ……….उस जैसे कई ओसामा पैदा हो जायेंगे ……….बेहतरीन भाव …

    R K KHURANA के द्वारा
    May 29, 2011

    प्रिय प्रिया जी, आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद राम कृष्ण खुराना

roshni के द्वारा
May 29, 2011

Respectedखुराना जी नमस्कार सही कहा आपने ओसामा तो मर गया लेकिन छोटे छोटे ओसामा अभी जिन्दा है बहुत ही अच्छी कविता बधाई

    R K KHURANA के द्वारा
    May 29, 2011

    प्रिय रौशनी जी बहुत दिनों के बाद आपकी मेल मिली ! बहुत बहुत धन्यवाद आप की प्रतिक्रिया मेरे लिए उर्जा का काम करती है ! राम कृष्ण खुराना

s.p.singh के द्वारा
May 29, 2011

खतरनाक साबित हो सकते है !अभी जिंदा है ओसामा, आदरणीय खुराना जी, क्या अछि तस्वीर प्रस्तुत की है – अच्छी रचना के लिए बधाई !

    R K KHURANA के द्वारा
    May 29, 2011

    प्रिय श्री सिंह साहब, आपका स्नेह मिला ! “जिन्दा है ओसामा” आपको अच्छी लगी ! जानकर प्रसन्नता हुई ! धन्यवाद् राम कृष्ण खुराना

allrounder के द्वारा
May 28, 2011

आदरणीय चाचा जी, नमस्कार ओसामा का मारा जाना दुनिया के लिए एक संकेत है इस बात का की दुनिया मैं हैवानियत का घिनौना खेल खेलने वालों का सफाया शुरू हो गया है और आशा है की दुनिया मैं नफरत का पैगाम फ़ैलाने के लिए कोई दूसरा ओसामा जन्म न ले सके !

    R K KHURANA के द्वारा
    May 29, 2011

    प्रिय सचिन जी, काश आपकी बात सत्य हो और हम राम राज्य का सपना देख सके आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद राम कृष्ण खुराना

lata kamal के द्वारा
May 28, 2011

नमस्कार खुराना जी , वास्तव मैं ओसामा मरा नहीं है .वो अपने पीछे हजारों ओसामा तैयार कर गया है ,वैसे भी हमारे नेता उसे मरने नहीं देंगे .आखिर उनके राजनीतिक जीवन का प्रश्न है .आम जनता का ध्यान भटकाने के लिए उन्हें कोई मुद्दा तो चाहिए .सुंदर व्यंग कहने का मतलब नहीं है क्योंकि आप हमेशा ही बहुत ही सरलता व सहजता से अपने बड़ी -२ बातें कहते है लेकिन एक अच्छी कविता और दिल को छूने वाली सोच के लिए धन्यवाद जरूर कहना चाहूंगी .

    R K KHURANA के द्वारा
    May 28, 2011

    सुश्री लता जी, हमेशा की तरह आपका स्नेह मिला ! अच्छा लगा ! आपको मेरी रचना “जिन्दा है ओसामा” अच्छी लगी तो मेरा लिखना सार्थक हो गया ! आपके स्नेह के लिए आभार ~ राम कृष्ण खुराना

J L SINGH के द्वारा
May 28, 2011

सही कहा आपने! रावण आज भी जिन्दा है और ओसामा भी मारा नहीं है. खुराना साहब को सदर नमस्कार!

    R K KHURANA के द्वारा
    May 28, 2011

    प्रिय सिंह साहेब, रावन तो फिर भी विद्वान था तथा निति के विरुद्ध नही चलता था ! परन्तु ओसामा …………? प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद राम कृष्ण खुराना

deepak joshi के द्वारा
May 28, 2011

आदरणीय खुराना जी, प्रणाम, रचना से अधिक सुंदर उस का शीर्षक है – जिंदा हैं ओसमा, जी हां सही फरमाया आपने क्‍योंकि आतंकियों का जनक था वह, उस के मरने के बाद भी आतंकवाद समाप्‍त नहीं हुआ ………………….. अच्‍छी रचना के लिए बधाई। दीपकजोशी63

    R K KHURANA के द्वारा
    May 28, 2011

    प्रिय दीपक जी, बहुत दिनों के बाद आपका नाम स्क्रीन पर आया ! आपकी सेहत कैसी है ! हमें ओसामा वाली मानसिकता बदलनी होगी तभी कुछ सार्थक निकल पायेगा ! मेरी रचना “जिन्दा है ओसामा” पर आपके स्नेह के लिए आभार ! राम कृष्ण खुराना

शिवेंद्र मोहन सिंह के द्वारा
May 28, 2011

आज की तारीख में विचारधारा बन गया है ओसामा, इस हिसाब से उसका मरना तो मुश्किल है. बहुत सुंदर रचना है आपकी, धन्य वाद

    R K KHURANA के द्वारा
    May 28, 2011

    प्रिय शिवेंद्र जी, यदि हमारे देश के नोजवान ठान ले तो ओसामा मर भी सकता है ! भ्रष्टाचार मिटने की जो मुहीम चल पड़ी है उसके असर से ओसामा की सोच रखने वाले लोग भी पकड़ में आ सकते है ! आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद राम कृष्ण खुराना

Nikhil के द्वारा
May 28, 2011

अंकल जी, सुन्दर रचना. ओसामा एक सोच है और उस सोच को संरक्षण देने वाले जब तक हैं ओसामा मर नहीं सकता. जब इस देश में ओसामा के नाम को संरक्षण मिलता है तो पाकिस्तान के द्वारा उसको दिया गया संरक्षण की कौन कहे.

    R K KHURANA के द्वारा
    May 28, 2011

    प्रिय निखिल जी, यही तो हमारे देश का दुर्भाग्य है की हमारे देश में ही ओसामा जैसे लोगो को पालने वालों की कमी नहीं है ! मेरी रचना “जिन्दा है ओसामा” पर आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद राम कृष्ण खुराना

nishamittal के द्वारा
May 28, 2011

खुराना जी बहुत दिन पश्चात आपकी रचना पढने को मिली. सही कहा आपने ओसामा और उसके पालकों के रहते हुए ओसामा कैसे मर सकता है,पाकिस्तान छोड़ भारत में बहुतों के दिलों में जीवित है.

    R K KHURANA के द्वारा
    May 28, 2011

    सुश्री निशा जी, आपका कथन सोलह आने सच है ! कई भारतियों के दिल में भी ओसामा जिन्दा है ! आपके स्नेह के लिए आपका दिल से शुक्रिया राम कृष्ण खुराना

Rishi Jaiswal के द्वारा
May 28, 2011

Shame on America to show his superiority and showing false drama……..

    R K KHURANA के द्वारा
    May 28, 2011

    प्रिय ऋषि जी, मेरी रचना “जिन्दा है ओसामा” पर आपका स्नेह मिला ! आभारी हूँ ! कृपया स्नेह बनाये रखें ! धन्यवाद् राम कृष्ण खुराना

    l.r.gandhi के द्वारा
    May 28, 2011

    दिग्गी जैसे कुष्ट मानसिकता वाले नेताओं के \’ओसमाजी\’ सदैव उनके छल कपट के \’वोट बैंक\’ में जीवित ही नहीं फलते फूलते भी रहेंगे. … सुन्दर रचना के लिए साधुवाद…. उतिष्ठकौन्तेय

    R K KHURANA के द्वारा
    May 28, 2011

    प्रिय गाँधी जी, आपने बिलकुल ठीक कहा है कि कुष्ट मानसिकता वाले नेताओं का हे बोलबाला है ! आपकी पतिक्रिय के लिए धन्यवाद् राम कृष्ण खुराना

    rawalkishore के द्वारा
    May 28, 2011

    बहुत खुबसूरत रचना हैं मान्यवर

    R K KHURANA के द्वारा
    May 28, 2011

    प्रिय रावल जी, “जिन्दा है ओसामा” पर आपकी प्रतिक्रिया के लिए आभारी हूँ ! धन्यवाद् राम कृष्ण खुराना


topic of the week



latest from jagran