KADLI KE PAAT कदली के पात

चतुर नरन की बात में, बात बात में बात ! जिमी कदली के पात में पात पात में पात !!

81 Posts

3601 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 875 postid : 144

हाय प्यारी लगती है

  • SocialTwist Tell-a-Friend

हाय प्यारी लगती है

राम कृष्ण खुराना

तुम्हारा नाम क्या ?
उल्लू-बाटा !
खाते क्या ?
घी और आटा !
सोते कहाँ ?
जंगल में !
डर नहीं लगता ?
प्रभु की कृपा !
तुम्हारी बीवी कहाँ ?
मायके !
लाते क्यों नहीं ?
लड़ती है !
दो डंडे मारो !
हाय, प्यारी लगती है !

राम कृष्ण खुराना

9988950584

khuranarkk@yahoo.in

http://www.khuranarkk.jagranjunction.com



Tags:                                       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (54 votes, average: 4.96 out of 5)
Loading ... Loading ...

22 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

mamta sagoriya के द्वारा
May 16, 2012

mare bete na abhi 12 vi cllase ki parichha di hai. krapa karke muje batayen ki mera beta kya kare

    R K KHURANA के द्वारा
    May 16, 2012

    आगे पढाई करे !

दीपक पाण्डेय के द्वारा
March 5, 2011

सचमुच प्यार आता है. अच्छी रचना, खुराना साहब.

    R K KHURANA के द्वारा
    March 5, 2011

    प्रिय दीपक जी, आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद राम कृष्ण खुराना

वाहिद काशीवासी के द्वारा
March 5, 2011

आदरणीय खुराना जी, आपकी यह लघु किन्तु चुटीली रचना सुन्दर बन पड़ी है| साभार,

    R K KHURANA के द्वारा
    March 5, 2011

    प्रिय वाहिद जी, मेरी रचना “हाय प्यारी लगती है” पर आपका स्नेह मिला ! आपका दिल से शुक्रिया ! राम कृष्ण खुराना

आर.एन. शाही के द्वारा
March 5, 2011

आदरणीय खुराना साहब, छोटा लेकिन करारा । बधाई ।

    R K KHURANA के द्वारा
    March 5, 2011

    प्रिय श्री शाही जी, सादर नमस्कार ! मेरी रचना पर आपकी प्रतिक्रिया मेरे लेखन रुपी खेत में खाद का काम करती है ! मैं आभारी हूँ ! राम कृष्ण खुराना

Raj के द्वारा
July 17, 2010

हाय, प्यारी लगती है । चाहे जैसी भी हो वो, वो मुझे न्यारी लगती है हाय, प्यारी लगती है ! नमस्कार स्वीकार करें चाचू । इत्ती बढ़िया लेख के लिये धन्यवाद ।

    R K KHURANA के द्वारा
    July 17, 2010

    प्रिय राज जी, आपको मेरी कविता “हाय प्यारी लगाती है” पसंद आई ! जानकर अच्छा लगा ! प्रतिक्रिया के लिए धयांवाद ! राम कृष्ण खुराना

Harish Kumar के द्वारा
June 17, 2010

सच मुझे भी बहुत प्यारी लगती है 1

    R K Khurana के द्वारा
    June 17, 2010

    प्रिय हरीश जी, आपकी प्रतिक्रिया लिए किये धन्यवाद राम कृष्ण खुराना

NAVEEN KUMAR SHARMA के द्वारा
June 16, 2010

HI SACHMUCH BAHUT PYARI LAGI AAPKI KAVITA. NAVEEN KUMAR SHARMA BAHJOI (MORADABAD) U.P. 09719390576

    R K Khurana के द्वारा
    June 16, 2010

    प्रिय नवीन जी, आपकी प्यारी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद् राम कृष्ण खुराना

kmmishra के द्वारा
June 14, 2010

हाय, हाय, सचमुच बहुत प्यारी लगती है ! आपकी कविता । झक्कास हे सरजी । मैं तो कुर्बान हो गया ।

    R K Khurana के द्वारा
    June 14, 2010

    प्रिय मिश्र जी, “हाय प्यारी लगती है’ कविता आपको बहुत प्यारी लगी जानकर आप पर बहुत प्यार आया ! आपकी प्रतिक्रिया के लिए ढेर सारा प्यार ! धन्यवाद् ! राम कृष्ण खुराना

sumityadav के द्वारा
June 14, 2010

खुराना अंकल, बहुत बढ़िया रचना लिखी आपने। बधाई।

    R K Khurana के द्वारा
    June 14, 2010

    प्रिय सुमित जी, हाय प्यारी लगती है –कविता आपको अच्छी लगी ! धन्यवाद ! राम कृष्ण खुराना

aditi kailash के द्वारा
June 14, 2010

बहुत खूब…….

    R K Khurana के द्वारा
    June 14, 2010

    \"हाय प्यारी लगती है\" रचना पर प्रतिक्रिया देने के लिए आपका धन्यवाद् टीचर दीदी ! राम कृष्ण खुराना

jack के द्वारा
June 14, 2010

वाकई बीवी न हो तो गम हो तो महागम

    R K KHURANA के द्वारा
    June 14, 2010

    प्रिय जैक जी, मेरी कविता “हाय प्यारी लगती है” आपको पसंद आई ! धन्यवाद ! अपने ठीक कहा है ! जीवन रुपी गाड़ी चलाने के लिए दूसरा पहिया तो होना ही चाहिए ! राम कृष्ण खुराना


topic of the week



latest from jagran